Breaking News

कविता

बिना टकराए मंजिल तक,पहुंच पाना बड़ा मुश्किल।

खाकर ठोकरें गिरि सी,संभल जाना बड़ा मुश्किल । टूटे ख्वाब को फिर से,सजा पाना बड़ा मुश्किल। नया इतिहास रचना है ,पड़ेगा मौत से लड़ना, बिना टकराए मंजिल तक,पहुंच पाना बड़ा मुश्किल। गिराएंगे तुम्हें बुझदिल, गिराना काम है उनका, न गिरना सामने उनके, संभल जाना बड़ा मुश्किल। जवानी है दीवानी तो, …

Read More »

बेड़ियाँ बन गयी पायल

#श्रृंगार आँख की काजल पे बहती अश्रुओं की धार चार चूड़ी हथकड़ी सी कर रही झनकार पाँव जो कि आगे बढ़,उस पर जाने को अधीर थे बेड़ियां बन गयी पायल,रह गए इस पार नारी तेरी दुर्दशा की तू ही जिम्मेदार अजब ये श्रृंगार तेरा,गजब ये श्रृंगार… प्रशंसा यायावर (पीयू)

Read More »