Breaking News

बेड़ियाँ बन गयी पायल

#श्रृंगार

आँख की काजल पे बहती अश्रुओं की धार
चार चूड़ी हथकड़ी सी कर रही झनकार
पाँव जो कि आगे बढ़,उस पर जाने को अधीर थे
बेड़ियां बन गयी पायल,रह गए इस पार
नारी तेरी दुर्दशा की तू ही जिम्मेदार
अजब ये श्रृंगार तेरा,गजब ये श्रृंगार…

प्रशंसा यायावर (पीयू)

Check Also

सीड द्वारा भारत-नेपाल सब-नेशनल एनर्जी ट्रेड पर अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

🔊 इस खबर को सुने Nukkad Live पटना 14 अगस्त 2020 | सेंटर फॉर एनवायरनमेंट …